हस्तिनापुर विधानसभा से सपा नेता इंद्रजीत ने सिंघु बॉर्डर पहुंच कर किसानों को दिया समर्थन , रोष मार्च निकाला

अन्य

 

दिव्य विश्वास, सवांददाता

हस्तिनापुर । हस्तिनापुर विधानसभा से समाजवादी पार्टी के नेता इंद्रजीत ने कहा कि ये काले कानून किसानों के हित में नहीं है। इन तीनों कानूनों के द्वारा उदारीकरण की नीतियों को आगे बढ़ाते हुए सरकार ने किसानों पर हमला किया है। सरकार को किसानों की और आम जनता की समस्याओं से कोई सरोकार नहीं है, केन्द्र सरकार देशी-विदेशी पूंजीपतियों और धन्ना सेठों की मदद करना चाहती है।  इसी मंशा से यह किसान विरोधी कानून लाए गए हैं। यह तीनों कानून किसानों से उनकी आजादी छीन लेना चाहते हैं, उनको पूंजीपतियों का गुलाम बना देना चाहते हैं। सपा नेता इंद्रजीत ने कहा कि ये कानून पूंजीपतियों के रास्ते में आने वाली सारी अड़चनों को खत्म कर देना चाहते हैं और पूरे देश में उन्हें मुनाफा कमाने और जनता का शोषण करने के लिये लाये गये हैं।  दूसरे अभी तक भंडारण की सीमा को खत्म करके पूंजीपतियों को मौका देते हैं कि वह चाहे जितने अनाज की जमाखोरी कर सकते हैं ताकि समय आने पर भरपूर मुनाफा कमा सकें और तीसरे यह कानून किसान से उसकी आजादी छीन लेना चाहते हैं कि वह अपनी पसंद की फसल पैदा न कर सके। अब उनको पूंजीपतियों के कहने पर फसल उगानी होगी और इस तरह से किसानों को पूरी तरह से देशी विदेशी पूंजी पतियों के रहमों करम पर छोड़ दिया गया है। चौथे सरकार किसानों को सरकारी अमले डीएम और एसडीएम के हवाले कर देना चाहते हैं और उनके लिए सिविल कोर्ट के सारे दरवाजे बंद कर देना चाहती हैं। उन्होने कहा कि  इन कानूनों के लागू होने से किसान सिविल कोर्ट में नहीं जा सकते बल्कि उन्हें सरकारी अधिकारियों के रहमों करम पर जीना होगा। इस तरह हम देखते हैं कि ये तीनों कानून पूर्ण रूप से किसानों के, जनता के, मेहनतकशों के खिलाफ हैं । उन्होंने कहा कि जब तक सरकार हमारी मांग को नहीं मानेगी हमारा आंदोलन जारी रहेगा। इस दौरान किशोर बाल्मीकि, सरदार निर्वन सिंघ खालसा,संदीप जाटव, नौशाद, गुलज़ार, अनिल वर्मा आदि  मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *