पत्रकारों ने की आईजी शिकायत, सीओ करेंगे जांच

अन्य

एसओ से वार्ता करने के बाद सीओ को दिए जांच के आदेश

दिव्य विश्वास, सवांददाता

मेरठ। मेडिकल थाना क्षेत्र में भूमाफिया द्वारा मान्यता प्राप्त पत्रकार पर किए जानलेवा हमले को लेकर शुक्रवार को अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति मेरठ इकाई के पत्रकार आईजी रेंज प्रवीण कुमार से मिले। समिति के जिला अध्यक्ष अजय चौधरी के नेतृत्व में पीड़ित पत्रकार के साथ दर्जनों पत्रकारों ने आईजी रेंज को ज्ञापन दिया। आईजी रेंज प्रवीण कुमार ने पीड़ित पत्रकार की सभी बातें सुने और तुरंत थाना अध्यक्ष मेडिकल से फोन पर बात की। इसके बाद सीओ सिविल लाइन को जांच के आदेश दे दिए। जिलाध्यक्ष अजय चौधरी ने दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने एवं पीड़ित पत्रकार को इंसाफ दिलाने की मांग रखी। आपको बताते चले की, थाना मेडिकल क्षेत्र के रामगढ़ी निवासी मान्यता प्राप्त पत्रकार नरेश कुमार पुत्र स्व. सत्यप्रकाश ने बताया कि पड़ोसी सतपाल सिंह राणा पुत्र गंगादास, मुकुल पुत्र सतपाल सिंह राणा भू-माफिया है। जमीनों पर कब्जा करना, नम्बर-दो की गाड़ियों को खरीदना और बेचना उनका पेशा है। दोनों पिता-पुत्र अपराधिक किस्म के हैं और गिरोहबंद, दबंग है। आरोप लगाया कि पिता-पुत्र ने आवास विकास के प्लॉट पर कब्जा कर लिया। नगर निगम के रास्ते पर छप्पर डालकर अवैध तरीके से कब्जा जमा लिया। इससे रास्ता बंद हो गया, जिसकी शिकायत उसने आईजीआरएस पर की थी। शिकायत होने पर सतपाल सिंह उससे रंजिश रखने लगा। गत 12 जनवरी की दोपहर वह अपने कार्य से बाहर जा रहा था। तभी सतपाल ने अपने पुत्र के साथ मिलकर रोक लिया और गालियां देते हुए जान से मारने की धमकी। आरोप लगाया कि सतपाल ने उसके पुत्र के अपहरण कर हत्या की धमकी दी। फिर उस पर हमला कर दिया। उसने भागकर अपनी जान बचाई। सतपाल ने अपने पुत्र व साथियों संग मिलकर धारदार हथियारों से उस पर हमला किया। जिसकी सीसीटीवी कैमरे में फुटेज भी है। इस दौरान प्रदेश उपाध्यक्ष राव जफरयाब, मंडल अध्यक्ष मनोज उज्जवल, जिलाध्यक्ष अजय चौधरी, जिला महासचिव गौहर अनवार, युवा विंग संयोजक हसीन चौहान, वसीम खान, अतुल महेश्वरी, वीरपाल सुरानिया आदि पत्रकार मौजूद रहें।

झूठे केस में फंसाने की मिल रही धमकी :   नरेश कुमार ने बताया कि सतपाल झूठे केस में फंसाने की धमकी दे रहा है। क्योंकि सतपाल के बड़े भाई ओमपाल सिंह राणा सेवानिवृत्त संब इंस्पेक्टर है। नरेश कुमार का कहना है कि पूरे मामले की शिकायत मेडिकल थाने में भी की, लेकिन क्षेत्रीय पुलिस चौकी इंचार्ज भी सतपाल का पक्ष ले रहे हैं और उल्टा उसे ही धमका रहे हैं। चौकी प्रभारी ने पूरे मामले में उसी को कसूरवार ठहरा दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *