भाजपा ने पश्चिमी यूपी से अश्वनी त्यागी सहित 6 नामों पर लगी मोहर

अन्य

आगामी 30 जनवरी को खाली हो रही 12 विधान परिषद सीटें




  • इस बार भी पूर्व प्रदेशाध्यक्ष के हाथ लगी मायूसी
  • अश्वनी त्यागी को दिया पार्टी ने बड़ा इनाम

दिव्य विश्वास, संवाददाता

मेरठ। प्रदेश में आगामी 30 जनवरी को खाली हो रही विधान परिषद की 12 सीटों के लिए सभी दलों ने अपने समीकरण साधने शुरू कर दिए हैं। इन 12 सीटों में सर्वाधिक लाभ अगर किसी पार्टी को होगा तो वह है सत्तारूढ भाजपा है। भाजपा के सर्वाधिक 10 प्रत्याशियों का विधान परिषद पहुंचना बिल्कुल तय है। भाजपा ने आज फिर से 6 नामों की घोषणा कर दी है। इन नामों में पश्चिमी उत्तर प्रदेश से अश्वनी त्यागी, कुंवर मानवेंद्र सिंह, गोविंद नारायण शुक्ला, अनिल विश्नोई, डाॅ. धर्मवीर प्रजापति और सुरेंद्र चौधरी शामिल हैं।

बात पश्चिम क्षेत्र के दिग्गजों के नामों की करें तो इनमें दो नाम पर पार्टी विचार कर रही थी। इन दो नामों में पहला नाम पूर्व प्रदेशाध्यक्ष रहे डाॅ. लक्ष्मी कांत वाजपेयी और अश्वनी त्यागी के नाम प्रमुख थे। डाॅ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी वैसे भी 2017 का विधानसभा चुनाव में हार जाने के बाद से अलग-थलग पड़े हुए हैं।

प्रदेश की इन दस सीटों पर अपना एमएलसी बनाने के लिए भाजपा के भीतर तेजी से मंथन चल रहा था। पार्टी सूत्रों की माने तो शीर्ष नेतृत्व जहां नए चेहरों पर फोकस करने की बात कर रहा है। वहीं कुछ पुराने चेहरों को भी आजमाने का मन बना रही थी। पश्चिम उत्तर प्रदेश में दावेदारों की दौड़ से राजनीतिक पारा चढ़ हुआ था। लखनऊ में पार्टी ने कई नामों पर विचार कर सूची को दिल्ली भेजा गया, जिनमें से आखिरकार अश्वनी त्यागी के नाम पर अंतिम दौर में मोहर लगी।

अश्वनी त्यागी के नाम घोषित होने के बाद से पश्चिम उत्तर प्रदेश की राजनीतिक राजधानी मेरठ में एमएलसी को लेकर अटकलों का दौर खत्म हो गया। बता दें कि अश्वनी त्यागी पिछले 2017 के विधानसभा चुनाव के बाद एक मजबूत चेहरे के रूप में उभरे हैं। इसलिए ही पार्टी ने उनके ऊपर भरोसा कर उन पर दांव लगाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *