वीर शिरोमणि देशभक्त महाराणा प्रताप की पुण्यतिथि श्रद्धांजलि समारोहोत्सव पूर्वक मनाई गई

अन्य

दिव्य विश्वास,संवाददाता, मेरठ। महाराणा प्रताप आदर्श प्रचार सभा मेरठ व समाजसेवा वाहिनी उप्र, अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा शताब्दी नगर मेरठ के तत्वाधान में स्मरणीय महाराणा प्रताप की पुण्यतिथि के अवसर पर श्रद्धांजलि समारोह का आयोजन किया गया। महाराणा प्रताप की प्रतिमा पर दुग्ध-जलाभिषेक करते हुए प्रतिमा स्थल पर वैदिक यज्ञ किया गया। 

तदुपरांत भारत की वर्तमान राजनीति की दिशा एवं दशा पर विचार गोष्ठी का सफल आयोजन किया गया। संगोष्ठी का विषय प्रस्तार करते हुए मुख्य वक्ता संयोजक आचार्य डा. सोमप्रताप गहलौत ने कहा कि भारतवर्ष में स्वतंत्राता आंदोलन के आदर्श महाराणा प्रताप थे। वर्तमान आजादी के बाद उनके आदर्शों को भुला दिया है। राजनेता सम्पत्ति, ऐश्वर्य, वैभव लूटने में लगे हैं। जबकि महाराणा प्रताप के राज्यभिषेक के बाद ली गई प्रतिज्ञा विश्व प्रसिद्ध है ‘‘जब तक मैं भारतीय-वैदिक संस्कृति को विदेशी-यवनों शत्रुओं से अपनी मातृभूति को मुक्त न करा लूंगा, तब तक महलों, शैय्या, सोने-चांदी, धातुओं के बर्तनों में भोजन नहीं करूंगा’’ इस प्रतिज्ञा का 25 वर्षों तक जंगलों में युद्ध करते हुए देवलोक को प्रस्थान किया। देशभक्ति की अनेकानेक घटनाओं का उल्लेख किया। विशिष्ठ अतिथि विजय पाल फौजी मुजफ्फरनगर ने महाराणा प्रताप के आदर्शों को अपनाने पर बल दिया। सभी वक्ताओं ने उक्त कथन का समर्थन करते हुए सहयोग प्रदान किया। इस मौके पर दिनेश जैन, अजय बालियान, गगन ठाकुर, मयंक सोम, हर्ष पुण्डीर, आशीष चौहान, सत्यप्रकाश, सुखवीर यादव, राहुल आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *