कोरोना वायरस हो या बॉर्डर की चुनौती, भारत हर हालात से निपटने में सक्षम:पीएम मोदी

अन्य देश-दुनिया राजनीति

 

 

नई दिल्ली(एजेंसी): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में नेशनल कैडेट कॉर्प्स (एनसीसी) के बीच पहुंचे। इस दौरान पीएम को गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया। उन्होंने कहा कि वायरस हो या बॉर्डर की चुनौती, भारत इससे निपटने में सक्षम है। पिछले साल हमने दिखाया है कि भारत हर मोर्चे पर निपटने में समर्थ है। आज हम वैक्सीन के मामले में भी आत्मनिर्भर हैं। साथ ही सेना की मजबूती के भी प्रयास कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि आज भारत के पास दुनिया की बेहतरीन वार मशीन हैं। आपने देखा कल ही भारत में तीन और राफेल विमान आए। इन विमान में मिड एयर में ही ऑयल रीफ्यूलिंग हुई है। ये रीफ्यूलिंग खाड़ी देशों ने की है। यह खाड़ी देशों के भारत के साथ मजबूत होते संबंधों को बताता है।

देश में अब नक्सलवाद सिमटकर रह गया : मोदी
मोदी ने कहा कि एक समय हमारे देश में माओवाद-नक्सलवाद कितनी बड़ी समस्या थी। देश के सैकड़ों जिले इससे प्रभावित थे। हमारे सुरक्षाबलों का शौर्य आगे आया, तो देश में अब नक्सलवाद सिमटकर रह गया है। बाढ़ के हालात, कोरोना के इस कालखंड में लाखों कैडेट्स ने प्रशासन और समाज के साथ मिलकर जिस तरह काम किया, मैं उनकी प्रशंसा करता हूं। हमारे यहां जिन नागरिक कर्तव्यों की बात की गई है, उन्हें सभी को निभाना चाहिए। जब सामान्य नागरिक कर्तव्यों पर बल देते हैं, तब बड़ी से बड़ी चुनौतियों को हल किया जा सकता है।

एनसीसी की छवि मजबूत हो रही
एनसीसी ने अपनी जो छवि बनाई है, वह दिनों दिन और मजबूत होती जा रही है। मैं जब आपको देखता हूं, तो भरोसा बढ़ता जाता है। जहां संविधान के प्रति लोगों में जागरूकता का काम चल रहा है, पर्यावरण संरक्षण का काम चल रहा हो, संकट का समय हो, तो एनसीसी कैडेट्स जरूर नजर आते हैं। आप जिस संगठित और अद्भुत तरीके से काम करते हैं, उसके उदाहरण दूसरी जगह बहुत कम देखने को मिलते हैं।

एनसीसी की मेहनत पूरी दुनिया ने देखी
उन्होंने कहा कि आप सभी युवा साथियों के बीच जितना भी पल बिताने का मौका मिलता है, वह एक सुखद अनुभव देता है। आपने मार्च पास्ट किया। कुछ कैडेट्स ने पैरासैलिंग और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का प्रदर्शन किया। मैं ही नहीं, टीवी के माध्यम से जो लोग इसे देख रहे होंगे, उन्हें गर्व हुआ होगा।
उन्होंने कहा कि आपकी मेहनत और प्रदर्शन को पूरी दुनिया ने देखा है। हमने देखा है कि जिन देशों में समाज में अनुशासन होता है, वे अपना परचम फहराते हैं। आपमें भी अनुशासन की यह भावना एनसीसी के बाद भी आपके साथ रहनी चाहिए। आप अपने आसपास के लोगों को प्रेरित करेंगे,तो भारत का समाज इससे मजबूत होगा,देश मजबूत होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *