10 महीने तक कोमा में रहा युवक, दो बार हुआ कोरोना फिर भी महामारी के बारे में कुछ नहीं मालूम

क्राइम क्रिकेट देश देश-दुनिया फैशन बिज़नेस लाइफ स्टाइल

दुनियाभर में कोरोना वायरस को फैले हुए एक साल से ज्यादा समय हो चुका है, लेकिन वैक्सीन के आ जाने के बाद भी यह महामारी रुकी नहीं है। यूरोप-अमेरिका जैसी जगहों पर रोजाना कई मामले सामने आ रहे हैं। इसी दौरान, कोरोना वायरस से जुड़ा एक ऐसा केस सामने आया है, जिसपर लोग आश्चर्य जता रहे हैं। दरअसल, ब्रिटेन का रहने वाला एक युवक दो बार कोरोना से संक्रमित होने के बाद भी इस महामारी के बारे में कुछ नहीं जानता है।

न्यूजवीक वेबसाइट के अनुसार, हुआ यूं कि 19 वर्षीय जोसेफ फ्लेविल नामक यह ब्रिटिश युवक दस महीने पहले एक्सीडेंट का शिकार होकर कोमा में चला गया था। उसी हालत में वह दो बार संक्रमित भी हो गया। मध्य इंग्लैंड में एक मार्च को एक गाड़ी ने उसे टक्कर मार दी थी। इस हादसे के तीन हफ्ते में ब्रिटेन में पहली बार लॉकडाउन लगाया गया था। कई महीनों तक कोमा में रहने के बाद फ्लेविल ने धीरे-धीरे रिकवर करना शुरू किया। वह अपने घर वालों को आंखों के जरिए से हां या नहीं में जवाब दे पाते हैं।

दुनियाभर में कोरोना वायरस को फैले हुए एक साल से ज्यादा समय हो चुका है, लेकिन वैक्सीन के आ जाने के बाद भी यह महामारी रुकी नहीं है। यूरोप-अमेरिका जैसी जगहों पर रोजाना कई मामले सामने आ रहे हैं। इसी दौरान, कोरोना वायरस से जुड़ा एक ऐसा केस सामने आया है, जिसपर लोग आश्चर्य जता रहे हैं। दरअसल, ब्रिटेन का रहने वाला एक युवक दो बार कोरोना से संक्रमित होने के बाद भी इस महामारी के बारे में कुछ नहीं जानता है।

न्यूजवीक वेबसाइट के अनुसार, हुआ यूं कि 19 वर्षीय जोसेफ फ्लेविल नामक यह ब्रिटिश युवक दस महीने पहले एक्सीडेंट का शिकार होकर कोमा में चला गया था। उसी हालत में वह दो बार संक्रमित भी हो गया। मध्य इंग्लैंड में एक मार्च को एक गाड़ी ने उसे टक्कर मार दी थी। इस हादसे के तीन हफ्ते में ब्रिटेन में पहली बार लॉकडाउन लगाया गया था। कई महीनों तक कोमा में रहने के बाद फ्लेविल ने धीरे-धीरे रिकवर करना शुरू किया। वह अपने घर वालों को आंखों के जरिए से हां या नहीं में जवाब दे पाते हैं।

‘गार्डियन’ से बात करते हुए उनकी आंटी सैली फ्लेविल स्मिथ ने कहा कि कोमा में रहने की वजह से उसे यह तक नहीं पता था कि महामारी ने दुनियाभर में 22 लाख लोगों की जान ले ली है। उन्होंने कहा, ”उसे कोरोना वायरस के बारे में कुछ भी नहीं पता। वह दस महीने तक सोता रहा है। हालांकि, अब उसे थोड़ा बहुत बताया जाने लगा है।”

उन्होंने आगे बताया कि मुझे नहीं मालूम कि कहां से इसे बताना शुरू किया जाए। उन्होंने कहा कि अगर मुझसे एक साल पहले किसी ने यह बताया होता कि अगले एक साल में क्या होने वाला है, तो मुझे नहीं लगता कि मैं विश्वास भी करती। मुझे नहीं मालूम कि वह कैसे इन सब बातों को समझेगा। वहीं, युवक के घरवालों ने उसे वीडियो कॉल के जरिए से कोरोना वायरस के बारे में और अधिक जानकारी देने की कोशिश की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *