यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह का निधन,लखनऊ में ली आखिरी सांस

उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया लखनऊ मंडल
  • अपने लंबे राजनीतिक सफर के दौरान कल्याण सिंह यूपी के मुख्यमंत्री रहने के अलावा राजस्थान और हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल भी रह चुके हैं।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम कल्याण सिंह का शनिवार शाम निधन हो गया हैं। बता दें कि कल्याण सिंह की तबीयत करीब दो महीने से खराब थी। लखनऊ के एसजीपीजीआई में उन्हें इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया था। वे 89 वर्ष के थे।कल्याण सिंह की तबीयत में गिरावट को देखते हुए सीएम योगी ने आज अपना गोरखपुर दौरा निरस्त कर दिया था। बता दें कि कल्याण सिंह यूपी के सीएम रहने के अलावा राजस्थान और हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल रह चुके हैं। निधन की सूचना मिलने पर बीजेपी के मंत्री,सांसद और कई कार्यकर्ताओं में शोक की लहर दौड़ पड़ी है। निधन के बाद तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की गई है।
लखनऊ पीजीआई ने शनिवार देर शाम एक बयान जारी करते हुए बताया कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के पूर्व राज्यपाल माननीय कल्याण सिंह जी का एक लंबी बीमारी के बाद आज निधन हो गया। उन्हें 4 जुलाई को संजय गांधी पीजीआई के आईसीयू में गंभीर अवस्था में भर्ती किया था। लंबी बीमारी और शरीर के कई अंगों के धीरे-धीरे फेल होने के कारण आज उन्होंने अंतिम सांस ली।
21 जून से चल रहा है कल्याण सिंह का इलाज
कल्याण सिंह को 21 जून को लखनऊ के लोहिया संस्थान में भर्ती किया गया था। 4 जुलाई को जब सबसे पहले उनकी तबीयत ज्यादा खराब हुई थी तो यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनसे मिलने पहुंचे थे। थोड़ी देर बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या सहित प्रदेश सरकार के कई मंत्री भी अस्पताल कल्याण सिंह का हालचाल लेने गए थे। तबीयत में सुधार न होने के बाद उसी दिन उन्हें पीजीआई शिफ्ट किया गया था। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा,बीएल संतोष समेत बीजेपी संगठन के तमाम बड़े नेता कल्याण सिंह का हालचाल जानने पीजीआई पहुंचे थे।
आपको बता दें कि यूपी की राजनीति में कल्याण सिंह एक ऐसी तारीख है जिसको कभी मिटाया नहीं जा सकता है। कल्याण सिंह ने एक साल में बीजेपी को उस मुकाम पर लाकर खड़ा कर दिया कि पार्टी ने 1991 में अपने दम पर यूपी में सरकार बना ली। कल्याण सिंह यूपी में बीजेपी के पहले मुख्यमंत्री बने। ये हमेशा बड़े कारणों के कारण याद किए जाते रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *