गाँव-गाँव जाकर की कोविड सैम्पलिंग में ड्यूटी फिर भी कोरोना से सुरक्षित 

अलीगढ़ मंडल उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया
  • कोविड के कड़े नियमों का पालन कर खुद को किया सुरक्षित : राजेश,सौरभ,अर्चना

कासगंज: कोरोना से बचने के लिए कड़े नियम अपनाकर आप एक बड़ी मुसीबत टाल सकते हैं। कुछ ऐसा ही उदाहरण पेश किया सैम्पलिंग में ड्यूटी कर रहे लैब टेक्निशियन राजेश,सौरभ व अर्चना ने। राजेश 13 मई 2020 व अर्चना 29 सितंबर 2020, सौरभ 29 मई 2020 को कोविड सैम्पलिंग में ड्यूटी ज्वाइन की। राजेश ने लगातार कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए फील्ड में काम किया है। यही कारण है कि सभी कोविड संक्रमण से आज तक सुरक्षित हैं।

लैब टेक्नीशियन राजेश
सौरभ डार्क रूम असिस्टेंट

कासगंज दुर्गा कॉलोनी के रहने वाले लैब टेक्नीशियन 25 वर्षीय राजेश ने 13 मई 2021 को संविधा पर सीएचसी अशोकनगर में ड्यूटी ज्वाइन की। 13 मई से अब तक फील्ड में सैम्पलिंग कर रहे हैं। सैम्पलिंग करते वक़्त कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हैं और घर आते ही पहले नहा कर अपने कपड़े धोते हैं उसके बाद अपने घर वालों से मिलते हैं राजेश ने बताया कि उन्होंने कोरोना टीके की दोनों डोज़ लगवा ली हैं और वे सभी से अपील करते हैं कि सभी लोग अपना टीकाकरण कराए।
फिरोजाबाद के रहने वाले 26 वर्षीय सौरभ ने बताया कि वे सीएचसी पर डार्क रूम असिस्टेंट के पद पर कार्यरत है उन्होंने बताया कि 29 मई 2020 को उन्होंने ड्यूटी ज्वाइन की। उन्होंने बताया कि वे रोज़ फिरोजाबाद से अपडाउन करते हैं।उनका कहना है कि कोरोना की पहली और दूसरी लहर में फील्ड पर जाकर सैम्पलिंग में काम किया। इस दौरान कोरोना से बचाव के नियमों का कड़ाई से पालन किया और धूप हो या गर्मी हमने कभी अपना मॉस्क नहीं उतारा। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन को लगातार फॉलो किया। उन्होंने बताया कि पहली लहर के दौरान और बाद में सामान्य स्वास्थ्य सेवाएं शुरू हुई तो फील्ड पर जाने में कई साथी कोरोना के संक्रमण से डर रहे थे। तब हम कोरोना के संक्रमण से निडर होकर फील्ड पर जाने का उत्साह बड़ा और हममें उत्साह आया और उन्होंने अपना काम बखूबी किया। कोविड के दौरान गाँव-गाँव में जाकर सैम्पलिंग की इस दौरान भी हमारी ड्यूटी फील्ड में थी । लेकिन सुरक्षा का ध्यान रखा और काम को अपनी जिम्मेदारी से पूरा किया। कोरोना के संक्रमण के चलते अब तक कोविड-19 की चपेट में नहीं आए हैं।

लैब टेक्नीशियन अर्चना

सोरों गाँव अगोली की रहने वाली लैब टेक्नीशियन 25 वर्षीय अर्चना ने बताया कि 29 सितम्बर 2020 में ही उन्होंने ड्यूटी ज्वाइन की है, और जबसे वे लगातार फील्ड में सैम्पलिंग का काम कर रही है सीएचसी अशोकनगर पर कार्यरत हैं, अभी तीसरी लहर आने की संभावना है इसीलिए गाँव जाकर बच्चों की भी सैम्पलिंग शुरू कर दी गई है, इसके लिए हमारी पूरी टीम पूरी ज़िम्मेदारी से काम कर रही है। लेकिन इस बीच मास्क पहनना, हाथों को साफ रखना और शारीरिक दूरी का पालन करना जैसे मूलभूत उपायों का पालन किया है। इसके साथ ही कोरोना टीकाकरण शुरु हो गया तो हमने टीकाकरण भी समय से करा लिया। यही कारण है कि अब तक हम लगातार काम भी कर रहे हैं और कोरोना से भी बची हुई हैं।
उन्होंने कहा कि यदि आप हर जगह पर कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करेंगे और इसमें लापरवाही नहीं करेंगे तो कोरोना से बचाव संभव है। उन्होंने ने बताया कि उन्होंने कोविड सैंपलिंग का कार्य किया। पहली व दूसरी लहर में सीएचसी व फील्ड में काम किया और कोविड टीकाकरण की दोनों डोज लगवाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *