होम्योपैथी में भी है ब्लैक फंगस का सफल इलाज: डा.गुप्ता

आगरा मंडल उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया

होम्योपैथिक उपचार कराकर स्वस्थ हुए ब्लैक फंगस के मरीज
आगरा: कोविड के बीच ब्लैक फंगस(म्यूकोमाइकोसिस) के भी मरीज सामने आ रहे हैं। बिना सर्जरी किए भी होम्योपैथिक दवाओं से इसके मरीज स्वस्थ हो रहे हैं। आगरा के नेमिनाथ होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज में हाल ही में दो मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।

नेमिनाथ होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डा.प्रदीप गुप्ता

नेमिनाथ होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डा.प्रदीप गुप्ता ने बताया कि म्यूकोरमाइकोसिस यानि ब्लैक फंगस का इलाज होम्योपैथिक में संभव है । इसमें बिना सर्जरी के ब्लैक फंगस को ठीक किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि हमारे यहां पर कुल तीन मरीज आए हैं,इनमें से दो स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं और एक मरीज का अभी उपचार चल रहा है।

 ब्लैक फंगस में भी फायदेमंद हैं होम्योपैथिक दवाएं

डा.प्रदीप ने बताया कि बुलंदशहर निवासी हिमांशु को ब्लैक फंगस (म्यूकोरमायकोसिस) था। उसका ब्रेन प्रभावित हो गया था। वह दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती रहा लेकिन स्वस्थ नहीं हुआ। नेमिनाथ होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज में इलाज के लिए आया। वह यहां से स्वस्थ होकर घर लौटा है।
हिमांशु ने बताया कि दो मई को कोविड हुआ था। यहां पर इलाज चला । 26 मई को पता चला कि ब्लैक फंगस हो गया है। दिल्ली के एक अस्पताल में गए तो वहां ब्रेन का ऑपरेशन बताया। एक दोस्त ने नेमिनाथ हॉस्पिटल का पता दिया, यहाँ पर इलाज के बाद अब वह स्वस्थ है।
डा.प्रदीप ने बताया कि कासगंज निवासी 43 वर्षीय राजाराम और फर्रूखाबाद निवासी 55 वर्षीय राकेश कुमार को भी कोरोना के बाद ब्लैक फंगस हुआ था। राकेश के जबड़े में दिक्कत थी, यहां आकर दोनों मरीज स्वस्थ हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *