संघमाता डा. मुक्ति भटनागर को नम आंखों से दी गई भावभीनी श्रद्धांजलि

उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया मेरठ मंडल

सुभारती परिवार के सदस्यों ने “संघमाता डा.मुक्ति ग्लोबल बुद्धिस्ट फाउंडेशन” की स्थापना की। संघमाता द्वारा चिकित्सा, शिक्षा एवं समाज सेवा के क्षेत्र में किये गये महान कार्यों को याद करते हुए सुभारती परिवार सहित देश विदेश से शामिल सामाजिक संस्थाओं, राजनैतिक व धार्मिक सहित हर वर्ग के व्यक्तियों ने अर्पित की श्रद्धांजलि।
मेरठ: सुभारती ग्रुप की संस्थापिका संघमाता डा.मुक्ति भटनागर को विश्वविद्यालय परिसर स्थित मांगल्या प्रेक्षागृह में सुभारती परिवार की ओर से श्रद्धांजलि सभा आयोजित करके श्रद्धा सुमन अर्पित किया गया।
सभा का आरम्भ संघमाता डा.मुक्ति भटनागर के चित्र के समक्ष सुभारती परिवार के मुखिया डा.अतुल कृष्ण बौद्ध के नेतृत्व में परिवार के सदस्य डा.शल्या राज, डा. रोहित रविन्द्र, डा. कृष्णा मूर्ति,डा.आकांक्षा,अवनि,राहुल एवं डा.हिरो हितो ने दीप प्रज्जवलन करते हुए पुष्पांजलि के साथ किया। इस दौरान भिक्षु संघ ने बौद्ध विद्वान डा.चन्द्रकीर्ति के साथ मंगलाचरण वंदना प्रस्तुत की।
डा.अतुल कृष्ण बौद्ध ने श्रद्धांजलि सभा में उपस्थित सभी अतिथियों का हृदय से आभार प्रकट किया। उन्होंने अपने द्वारा लिखित भाव को उद्घोषक विवेक संस्कृति के माध्यम से सभी के समक्ष प्रस्तुत किया। जिसमें उन्होंने संघमाता डा.मुक्ति भटनागर के द्वारा चिकित्सा, शिक्षा, समाज सेवा सहित बौद्ध दर्शन के प्रचार प्रसार हेतु किये गये उत्कर्ष्ट कार्यों की गाथा का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि वह डा.मुक्ति के आदर्शों को ग्रहण करते हुए अपने मन को शान्त रखकर शीलों का पालन करने के साथ अपने कष्टों को भूलकर समाज में अन्य लोगो के कष्टों का निवारण करने के लिये तत्पर है। उन्होंने कहा कि संघमाता डा. मुक्ति भटनागर के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि देने की दिशा में सुभारती परिवार ने “संघमाता डा.मुक्ति ग्लोबल बुद्धिस्ट फाउंडेशन” की स्थापना की है। इस फाउंडेशन के माध्यम से विश्वभर में संघमाता द्वारा विचारित योजनाओं को मानव कल्याण की दिशा में लक्ष्य तक पहुंचाया जाएंगा।
कार्यक्रम में संघमाता के जीवन पर आधारित डॉक्यूमेंट्री फिल्म का प्रदर्शन किया गया। पत्रकारिता संकाय के प्राचार्य डा. नीरज कर्ण सिंह द्वारा संघमाता के जीवन पर लिखित कविता ‘मेरी मॉ मुक्ति‘ सुनाकर उन्होंने सभी को भाव विभोर कर दिया।
इसके अलावा वियतनाम बौद्ध संघ के प्रथम संघ राजा थिक ट्री कुआंग, वियतनाम बुद्धिस्ट विश्वविद्यालय के कुलपति डा. थिक ना थू, विश्व बौद्ध महासंघ के अध्यक्ष डा.पौन चाय पिनया पौ, ताई सितुपा रिनपोचे, डा. धम्मापिया, अनिरूद्ध श्रीलंका आचार्य किनले गयालसे भूटान,म्यांमार के राजदूत डा. मियो औंग, उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित सहित देश-विदेश की सामाजिक,राजनैतिक,धार्मिक संस्थाओं सहित व्यक्ति विशेषों ने भाव प्रकट करते हुए संघमाता को श्रद्धांजलि अर्पित की।
सुभारती विश्वविद्यालय की मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा.शल्या राज ने संघमाता द्वारा बनाई गई भव्य कलाकृतियों को मांगल्या प्रेक्षागृह की स्क्रीन पर सभी के समक्ष प्रस्तुत किया।
मंच संचालन डा. नीरज कर्ण सिंह, ई. अर्चिता भटनागर ने किया। इस अवसर पर देहरादून के मेयर सुनील उनियाल, भाजपा नेता विनीत अग्रवाल शारदा, एडिशनल डायरेक्टर राजकुमार, अपर जिला जज हर्ष अग्रवाल, सिविल जज विनय कुमार, सीजेएम देवेन्द नाथ गोस्वामी, कुलपति डा.वी.पी.सिंह, पूर्व कुलपति डा.एन.के आहूजा, पूर्व जस्टिस राजेश चन्द्रा, प्रति कुलपति डा.विजय वधावन, डा.एसडी खान, सैयद ज़फ़र हुसैन, डा.ए.के. श्रीवास्तव, डा.निखिल श्रीवास्तव, डा. विनीता निखिल, डा.सत्यम खरे, डा.वैभव गोयल भारतीय, डा. पिन्टू मिश्रा, डा.पूजा गुप्ता, डा.अभय शंकरगौड़ा, डा.मनोज कपिल, डा.संदीप चौधरी, डा. मनोज त्रिपाठी, ई.विवेक तिवारी, ई.आकाश भटनागर, अनम शेरवानी, विशाल सिंह, डा.आरपी सिंह, हर्षवर्धन कौशिक, शरदचन्द्र, राजकुमार सागर, इंन्द्रपाल आदि सहित सुभारती परिवार के समस्त सदस्य उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *