सुभारती विवि की संस्थापक डा.मुक्ति भटनागर पंचतत्व में विलीन

उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया मेरठ मंडल

मेरठ: चिकित्सा,शिक्षा एवं समाज सेवा में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले सुभारती विवि मेरठ एवं देहरादून की संस्थापिका संघमाता डा.मुक्ति भटनागर का सोमवार को परिनिर्वाण हो गया। वह 64 वर्ष की थीं। पेशे से फिज़िशियन डा.मुक्ति भटनागर को म्यांमार की सर्वोच्च संघ परिषद के महासचिव द्वारा 2018 में बौद्ध अध्ययन में अतुल्य योगदान के लिए संघ माता की उपाधि से नवाजा गया था
उनके परिनिर्वाण से सुभारती परिवार सहित देश-विदेश में शोक की लहर दौड़ गई। कोरोना के चलते सुभारती परिवार ने लोगों से अपने घरों में ही रहकर प्रार्थना करने का निवेदन किया। वियतनाम बुद्धिस्ट संघ के प्रथम संघ राजा थिक ट्री कुआंग, वियतनाम बुद्धिस्ट विवि के कुलपति थिक ना थू एवं म्यांमार के राजदूत मियो औग ने शोकपत्र के माध्यम से अपनी संवेदनाएं प्रकट की। बौद्ध रीति-रिवाज से सोमवार सुबह भंते डा.चंद्रकीर्ति ने सूरजकुंड स्थित श्मशान पर डा.मुक्ति का अंतिम संस्कार कराया। सुभारती ग्रुप के संस्थापक एवं डा.मुक्ति के पति डा.अतुल कृष्ण बौद्ध ने मुखाग्नि दी। डा.मुक्ति बीते सात वर्षों से कैंसर से पीड़ित थीं। सोमवार शाम मांगल्य प्रेक्षागृह में हुई शोकसभा में डा.मुक्ति को श्रद्धांजलि दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *