यज्ञ का धुंआ हानिकारक जीवाणुओं को नष्ट करता है

उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया मेरठ मंडल

हापुड़: कोरोना वैश्विक महामारी से निजात पाने के लिए जहां पूरा भारत संघर्ष कर रहा है। सरकार विभिन्न अभियान चलाकर जनसामान्य को जागरूक कर रही है। वहीं आर्य समाज हापुड़ की ओर से पर्यावरण शुद्धि यज्ञ चलाया जा रहा है,जिसका हापुड़ क्षेत्र पर इतना सात्विक प्रभाव पड़ा है कि पिछले कुछ दिनों से हापुड़ में एक भी कोरोना का नया मरीज नहीं मिला व जो पॉजिटिव है। उनकी संख्या प्रतिदिन घटती जा रही है, इस सकारात्मक परिणाम को देखते हुए आज यह यज्ञ यात्रा भगवानपुरी के सतीश चंद्र के गृह निवास से प्रारंभ होकर कवि नगर से होते हुए पन्नापुरी में संस्कृत भारती की मीडिया प्रभारी स्वाति सिंहल के गृह निवास पर यज्ञ की पूर्ण आहुति हुई सैकड़ों की संख्या में महिलाओं व पुरुषों ने यज्ञ की अग्नि में अपनी आहुति प्रदान की तथा लोगों ने इस कार्य की सराहना करते हुए पुष्प वर्षा की।
इस दौरान आर्य समाज के मंत्री अनुपम आर्य ने कहा कि भारतीय संस्कृति में हमेशा से ही प्रकृति व आस-पास के जीव- जंतुओं के साथ समन्वय बनाकर,सभी के कल्याण के लिए कार्य किया जाता रहा है। कोरोना महामारी संकटकालीन समय में यह और भी आवश्यक हो गया है कि हम अपने आसपास के वातावरण और वायुमंडल को शुद्ध रखें।
वही आर्य समाज के प्रधान नरेंद्र आर्य ने बताया कि इस पर्यावरण शुद्धि यज्ञ यात्रा की पूर्णाहुति 5 अप्रैल पर्यावरण दिवस को आर्य समाज हापुड़ में होगी तथा उसी दिन वृक्षारोपण भी किया जाएगा आर्य समाज के पूर्व मंत्री आनंद आर्य ने कहा कि इस प्रकार के आयोजन हम समय-समय पर आगे भी करते रहेंगे।
इस अभियान में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे ताराचन्द शास्त्री ने हमारे पत्रकार आदित्य उपाध्याय से बात करते हुए बताया कि राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान के द्वारा किये गये एक शोध में पाया गया है कि यज्ञ के दौरान उत्पन्न औषधीय धुआं हानिकारक जीवाणुओं को नष्ट कर वातावरण को शुद्ध करता है जिससे बीमारी फैलने की आशंका काफी हद तक कम हो जाती है।
इस अवसर पर आचार्य धर्मेन्द्र, राधारमन आर्य नेचुरोपैथी, अभय आर्य, तुषार, अमित अग्रवाल, सीमा अग्रवाल, विशु अग्रवाल, रिया अग्रवाल, रेशु सिंहल, पूनम सिंहल, मिनाक्षी गोयल, प्रवेश तोमर, सुनीता सिंहल आदि का विशेष सहयोग रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *