पर्यावरण शुद्धि का एकमात्र उपाय यज्ञ: ताराचन्द शास्त्री

उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया मेरठ मंडल

हापुड़: आज सारा संसार भयंकर संकट से गुजर रहा है वायु के अंदर प्रदूषण,जानलेवा वायरस जिसने हमारा जीवन दूभर कर दिया है । पूरे विश्व के अंदर यह खतरनाक वायरस फैल चुका है। इससे बचने का उपाय हमारे ऋषि-मुनियों ने हमें बताया है वह है यज्ञ । हवन यज्ञ के द्वारा हम जो विशेष औषधि युक्त सामग्री की आहुति अग्नि में समर्पित करते हैं वह वायु के द्वारा हजार गुना बढ़कर पूरे वातावरण से दूषित विषैले तत्वों को दूर करता है और हमारा जीवन,हमारा वायुमंडल, हमारी पृथ्वी, हमारा जल, हमारे शरीर की हृयूमिनिटी,हमारी फसलें सब धीरे-धीरे शुद्ध होना शुरू हो जाती हैं। इसी कार्यक्रम को हमारे पूर्वज करते आए हैं आज हम इसको भूल चुके हैं। हमें अपने परिवारों में अन्य उपायों के साथ ही हवन यज्ञ की परंपरा को प्रारंभ करना चाहिए और विशेष औषधि संयुक्त सामग्री से,गौ घृत से,आम या पीपल की समिधा से हवन या धूनी देकर वातावरण को शुद्ध करना चाहिए। सभी लोगों को अपनी भाषा,अपने धर्म के अनुसार इस कार्यक्रम को कर पर्यावरण रक्षा करनी चाहिए। इसी क्रम में आज आर्यसमाज के द्वारा यह कार्यक्रम किया गया। जिसमें काफी लोगों ने बड़ी श्रद्धा से इस कार्यक्रम का लाभ उठाया। इसके संयोजक डा.राधा रमन आर्य नेचरोपैथ थे। ताराचंद शास्त्री ने इस विषय को बहुत अच्छी प्रकार से उपस्थित जनता को समझाते हुए यज्ञ का वैज्ञानिक महत्व बताया व यज्ञ को विश्व का सबसे पहला सैनिटाइज बताया। इस अवसर पर वेद मित्र आर्य, शिवरतन सोमानी, शिव कुमार शर्मा, चंडी प्रसाद गुप्ता, निधि माहेश्वरी, कुमारी परिधि, कुमारी वंदिता, कुमारी सुरभि, दीपिका, पुष्पा आर्य, प्रिया गुप्ता, हर्ष गुप्ता, अभय आर्य आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *