अलीगढ़ में 500 साल पुराने अचलेश्वर मंदिर का एक हिस्सा ढहा

अलीगढ़ मंडल उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया

अलीगढ़: अलीगढ़: लगातार हुई बारिश ने जहां गर्मी से राहत दी, वहीं सरकारी व्यवस्थाओं की पोल भी खोलकर रख दी है। जगह-जगह हुए जलभराव ने मुसीबत खड़ी कर दी। वहीं, के प्राचीन अचलेश्वर महादेव मंदिर का एक बड़ा हिस्सा बुधवार देर रात ढहकर अचल सरोवर में जा गिरा। मंदिर 500 साल प्राचीन बताया जा रहा है। सरोवर से सटे मंदिर के पिछले हिस्से में खुदाई तो करा दी,लेकिन सपोर्ट के लिए दीवार नहीं लगाई गई। हादसे पर भड़के बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने निगम पर अनियोजित विकास का आरोप लगाकर खूब हंगामा काटा,जाम-प्रदर्शन हुआ। प्रशासनिक अधिकारियों के आश्वासन पर कार्यकर्ता शांत हुए।
बेमौसम बारिश से निचले इलाकों में पानी भरा
आमतौर पर मानसून में ही सरकारी इंतजामाें की तस्वीरें साफ होती हैं। लेकिन,इस बार मानसून से पहले ही सच्चाई सामने आ गई। बुधवार को दिनभर हुई बेमौसम बारिश से निचले इलाकों में पानी भर गया। खैर रोड जलमग्न हो गया। रामघाट रोड,गुरुद्वारा रोड,मैलरोज बाईपास आदि मार्गाें पर भी जलभराव हुआ। उधर,बारिश से अचलेश्वर मंदिर को खासा नुकसान हुआ है। रात करीब 12 बजे मंदिर का पिछला हिस्सा ढह गया। शुक्र रहा मुख्य भवन बच गया,इसी में शिवलिंग स्थापित है। वहीं,पिछले हिस्से में रखीं देवी-देवताओं की प्रतिमाएं मलबे के साथ सरोवर में गिरकर खंडित हो गईं। गुरुवार सुबह हादसे की जानकारी पर बजरंग दल के महानगर संयोजक गौरव शर्मा के नेतृत्व में तमाम कार्यकर्ता मंदिर पर पहुंच गए। नगर निगम पर निर्माण कार्य में लापरवाही का आरोप लगाकर नारेबाजी शुरू कर दी। एसीएम प्रथम, गांधीपार्क थानाध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं को समझाने की कोशिश की, लेकिन वे निगम अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग करने लगे। तभी कोल विधायक अनिल पाराशर,विहिप के संगठन मंत्री नरेश कुमार,पूर्व मेयर शकुंतला भारती,विहिप के विभाग मंत्री भगत सिंह,विशाल देशभक्त,हर्षद हिंदू आदि पहुंच गए। महानगर संयोजक ने बताया कि निगम अधिकारियाें से संपर्क करना चाहा,लेकिन कॉल रिसीव नहीं किया। दोपहर 12 बजे सहायक नगर आयुक्त राजबहादुर सिंह पहुंचे थे। मंदिर के सेवादार हरि गोस्वामी,रजत गाेस्वामी, हिमांशु,राजू गोस्वामी ने बताया कि मंदिर के पिछले हिस्से में सीढ़ियां बनी हुई हैं। खोदाई के दौरान सीढ़ियां तोड़ दीं, लेकिन कोई सपोर्ट नहीं लगाई। बारिश से मिट्टी कटने लगी और हादसा हो गया। यहां रह रहे एक ड्राइवर का कमरा भी ढह गया। हादसे में दो परिवार बाल-बाल बचे। प्रदर्शन के दौरान बजरंग दल कार्यकर्ताओं की सहायक नगर आयुक्त से काफी गहमा-गहमी हुई। बाद में निगम के अन्य अधिकारी भी आ पहुंचे। अधिकारियों ने कहा कि पहले मुख्य भवन को सुरक्षित किया जाएगा,इसके बाद क्षतिग्रस्त हिस्से में बाउंड्री कराई जाएगी। इस आश्वासन पर कार्यकर्ता शांत हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *