कोरोना काल में भावात्मक रूप से अपनों के बने रहें करीब

अलीगढ़ मंडल उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया

दवा के साथ हौंसले की अधिक ज़रूरत है: मानसिक काउंसलर
कासगंज: जनपद में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के दौरान उपचाराधीनों को दवा के साथ हौंसले की अधिक ज़रूरत है। संक्रमण रोकने के लिए पूरे देश में टीकाकरण व जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है फिर भी बार-बार लॉकडाउन में लोगों को घर पर ही रहना पड़ रहा है। विषम परिस्थिति में अपने मन में किसी तरह का कोई नकारात्मक भाव पैदा न होने दें। कोरोना संकट के समय में अपनों से दूर न हों। शारीरिक दूरी बनाकर मानसिक रूप से अपनों से जुड़े रहें|
जिला अस्पताल कासगंज के मानसिक स्वास्थ्य काउंसलर अरुण शर्मा का कहना है कि कोरोना काल में एक दूसरे से मेलजोल कम होने की वजह से लोगों में तनाव व चिड़चिड़ापन स्वभाव में शामिल हो जाता है,जिससे अवसाद बढ़ने का डर रहता है।
कोरोना के चलते यदि परिवार के साथ रहते हैं तो आपस में बातचीत करते रहें। एक दूसरे की बात ध्यान से सुनें और बेवजह टोका टाकी से बचें। यदि अकेले रह रहे हैं तो दिनचर्या में बदलाव लाएं। खाली समय में मनोरंजन के लिए मनपसंद कोई फिल्म या सीरियल देखें। किताबें पढ़ने या अपनी हाॅबी के काम करें यदि कोई हाॅबी नहीं है तो जिसे आप अपना सबसे बड़ा करीबी समझते हैं,उसे वीडियो कॉलिंग व फ़ोन करके बातचीत कर सकते हैं। इससे अवसाद तो कम होगा ही साथ ही साथ आप और सामने वाला व्यक्ति प्रसन्न भी महसूस करेंगे। साथ ही अवसाद कम होगा।
मानसिक तौर पर दूरी बनी रहेगी तो,मानसिक स्वास्थ्य पर इसका प्रभाव कम पड़ेगा,इसलिए ऐसे समय में अपनों का साथ ज़रूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *