कोविड और 5-G के बीच कोई नहीं संबंध, अफवाहों पर ध्यान न दें लोग: दूरसंचार विभाग

देश देश-दुनिया नई दिल्ली

दूरसंचार विभाग ने कोविड-19 महामारी की लहर के बीच दूरसंचार सेवा कंपनियों के फील्ड और अग्रिम पंक्ति में कर्मचारियों के काम के महत्व को बताते हुए उन्हें टीकाकरण में प्राथमिकता दिए जाने की कंपनियों की मांग का अनुमोदन किया है।
नई दिल्ली: दूरसंचार विभाग ने कहा कि 5-जी तकनीक और कोविड-19 के प्रसार के बीच कोई संबंध नहीं है। विभाग ने लोगों से अपील की कि वे सोशल मीडिया पर फैल रहे इस तरह के आधारहीन एवं फर्जी संदेशों से गुमराह न हों। विभाग ने सोमवार को एक आधिकारिक बयान में कहा कि यह दावा ‘गलत’ है और इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है कि देश में 5-जी ट्रायल या नेटवर्क से कोविड-19 बीमारी फैल रही है। बयान में कहा गया कि विभिन्न सोशल मीडिया मंचों पर गुमराह करने वाले कई संदेश फैले हुए हैं जिनमें दावा किया गया है कि देश में महामारी की दूसरी लहर का कारण 5-जी मोबाइल टावर के परीक्षण हैं।
विभान ने कहा, ‘ये संदेश गलत हैं और पूरी तरह से बेबुनियाद हैं। इसलिए आम जनता को सूचित किया जाता है कि 5जी तकनीक एवं कोविड-19 के प्रसार में कोई संबंध नहीं है और उनसे अपील की जाती है कि वे इससे जुडी गलत सूचना एवं अफवाहों से गुमराह न हो। 5-जी तकनीक और कोविड-19 महामारी के बीच संबंध होने के दावे गलत हैं और इनका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है।’
‘दूरसंचार कर्मियों को टीकाकरण में दी जाए प्राथमिकता’
इधर, दूरसंचार विभाग ने कोविड-19 महामारी की लहर के बीच दूरसंचार सेवा कंपनियों के फील्ड और अग्रिम पंक्ति में कर्मचारियों के काम के महत्व को रेखांकित करते हुए उन्हें टीकाकरण में प्राथमिकता दिए जाने की कंपनियों की मांग का अनुमोदन किया है। दूरसंचार सचिव अंशु प्रकाश ने केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सचिव राजेश भूषण को पत्र लिख कर दूरसंचार कंपनियों के मंच सीओएआई की मांग पर विचार किए जाने की सफारिश की है।
भारतीय सेल्युलर मोबाइल सेवा प्रदाताओं के संघ (सीओएआई) ने दूरसंचार विभाग से मांग की है कि दूरसंचार कर्मचारियों को कोविड-19 महामारी के प्रकोप को कम करने में अग्रिम पंक्ति के योद्धा मानते हुए उन्हें टीकाकरण में प्राथमिकता दी जाए। सीओएआई के महानिदेशक एस.पी कोचर ने दूरसंचार सचिव को लिखे एक पत्र में कहा कि दूरसंचार परिचालक देश की सूचना अवसंरचना में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रह हैं। पत्र में कहा गया, ‘ऐसे में यह जरूरी है कि उन्हें अग्रणी स्वयंसेवकों के रूप में श्रेणीबद्ध किया जाए, ताकि उन्हें कोविड-19 टीकाकरण में प्राथमिकता मिल सके।’
‘दूरसंचार कर्मचारी बिना रुके कर रहे हैं काम’
इस पत्र के संदर्भ में दूरसंचार सचिव प्रकाश ने स्वास्थ्य सचिव भूषन को पत्र लिख कर कहा कि सीओएआई के अनुरोध पर सकारात्मक रूप से विचार किया जाएगा। दूरसंचार विभाग सीओएआई के अनुरोध का समर्थन करता है। इसमें कोई संदेह नहीं कि पूरे देश में दूरसंचार कर्मचारी डेटा और वायस सेवाओं को निर्बाध रूप से जारी रखने के लिए बिना रुके काम कर रहे हैं और ऐसे में कोविड-19 से संक्रमित होने का जोखिम भी बहुत अधिक है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *