सेना ने संभाली कमान, बनाया कोविड मैनेजमेंट सेल

उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया मेरठ मंडल

चार्जिंग रैम डिवीजन की पहल, सैन्य परिवारों को मिलेगी सहूलियत

मेरठ: कोविड के खिलाफ जंग में कमान संभाल चुकी सेना ने अपनी तैयारियों और व्यवस्था को चाक-चौबंद करना शुरू कर दिया है। जरूरत के अनुरूप पूर्व सैनिकों,वीर नारियों व उनके परिजनों को ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया कराने के बाद अब चार्जिंग रैम डिवीजन की ओर से कोविड मैनेजमेंट सेल बनाया गया। सैनिक अस्पताल के मुख्य द्वार के सामने यह सेल सैनिक अस्पताल में इलाज या कोविड मरीजों को ध्यान में रखकर बनाया गया है। यह सेल सैनिक अस्पताल के सहायक के तौर पर कार्य करेगा,जहां मरीजों को प्राथमिक जांच व उपचार की सुविधा भी मिलेगी। प्राथमिक जांच के बाद जरूरत पड़ने पर उन्हें अस्पताल भेजा जाएगा।
ये है खासियत

  • कोविड मैनेजमेंट सेल में पूर्व सैनिकों,वीर नारियों व उनके परिजनों को मदद मुहैया कराई जाएगी।
  • सैनिकों व पूर्व सैनिकों के साथ उनके परिजनों को सैनिक अस्पताल की भीड़ से बचाने के लिए यह व्यवस्था की गई है।
  • कोविड मैनेजमेंट सेल में पहुंचने पर सेनेटाइजेशन व थर्मल स्कै¨नग के बाद उनकी प्राथमिक जांच भी की जा रही है।
  • जिन्हें अस्पताल भेजने की जरूरत है, उनके लिए ई-रिक्शा की भी व्यवस्था है। जिन्हें अस्पताल में उपचार को जाना पड़ता है, उनके परिजन यहां बैठकर इंतजार कर सकते हैं।

कोविड सेल का लाभ
कोविड मैनेजमेंट सेल में पूर्व सैनिकों, वीर नारियों व उनके परिजनों को मदद मुहैया कराई जाएगी। सैनिक अस्पताल में इलाज को सैनिकों व पूर्व सैनिकों के साथ उनके परिजन भी आते हैं। इन्हें अस्पताल में भीड़ से बचाने के लिए यह व्यवस्था की गई है। सेल में पहुंचने पर सेनेटाइजेशन व थर्मल स्कै¨नग के बाद उनकी प्राथमिक जांच भी की जा रही है। जिन्हें अस्पताल भेजने की जरूरत है, उनके लिए ई-रिक्शा की भी व्यवस्था है। जिन्हें अस्पताल में उपचार को जाना पड़ता है, उनके परिजन यहां बैठकर इंतजार कर सकते हैं।
ऑक्सीजन का इंतजाम
कोविड मैनेजमेंट सेल में प्राथमिक तौर पर ऑक्सीजन सुविधा वाले दो बेड और चिकित्सकों का भी इंतजाम है। जिससे इमरजेंसी मरीजों को भी त्वरित उपचार मिल सके। रैम डिवीजन की टीम भी सहायता के लिए मौजूद है। यहां इंतजार करने वालों के लिए चाय-नाश्ता और टायलेट की सुविधा भी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *