कोरोना से बचाव के लिए भाप लें,पीते रहे गुनगुना पानी: डा.बी.पी सिंह (सीएमओ)

अलीगढ़ मंडल उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया

कोरोना वायरस से घबराएं नहीं,सावधानी बरतें
अलीगढ़: जनपद में कोरोना तेजी से फैल रहा है। इस बार कोरोना फेफड़ों को सीधे प्रभावित कर रहा है। ऐसे में थोड़ी सी सावधानी से सुरक्षित रहकर बीमारी से लड़ा जा सकता है।

     मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.बी.पी सिंह

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.बी.पी सिंह ने बताया यदि सांस लेने में दिक्कत हो रही हो तो तत्काल चिकित्सक को दिखाएं। खांसी सूखी आना,खांसते वक्त सीने में दर्द होना भी कोरोना के लक्षण है। ऐसे में घबराए नहीं,अपने को घर के अन्य सदस्यों से अलग होकर आइसोलेट हो जाएं। इसके बाद चिकित्सक की सलाह से दवा का सेवन करें,हर आधे घंटे पर ऑक्सीमीटर से ऑक्सीजन स्तर की जांच करते रहें। साथ ही कुछ चीजों का ध्यान रखें जैसे ठंडे पानी और ठंडे खाद पदार्थों का सेवन न करें। गुनगुना पानी पीते रहे। संतरा,सेब,नारियल पानी का सेवन करें। खाली पेट बिल्कुल भी ना रहे,क्योंकि खाली पेट वायरस तीव्रता से हावी हो सकता है ।
नोडल अधिकारी व डिस्टिक सर्विलेंस ऑफिसर (डीएसओ) डा.अनुपम भास्कर ने बताया यूं तो शरीर में ऑक्सीजन का सेचयूरेशन 100 फीसदी होना चाहिए लेकिन यह 94 से लेकर 98 के बीच रहना भी अच्छा माना जाता है। 94 से कम होने पर मॉनिटरिंग की जरूरत होती है‌। बेहतर ऑक्सीजन लेवल के लिए उल्टे लेट (प्रोनिंग पोजीशन) सकते हैं। कई बार नाक बंद होने से भी शरीर को ऑक्सीजन की आपूर्ति कम हो जाती है, ऐसेे में भाप लें ज्यादा दिक्कत होनेे पर चिकित्सक की सलाह पर नेबुलाइज भी कर सकते हैं। कोरोना पॉजिटिव होनेेे पर शरीर को आराम की जरूरत है। लेकिन श्वसन से जुड़े व्यायाम जारी रखना बेहतर होता है। डीप ब्रीदिंग शरीर को मिलनेेे में ऑक्सीजन की बढ़ोतरी करती है। फेफड़ों की सक्रियता बनी रहती है। गुब्बारों को फुलाकर सीढ़ियों पर चढ़-उतरकर 20 सेकंड से 60 सेकंड तक सांस रोककर फेफड़ों को मजबूत करने के साथ प्राणायाम करें।
डा.शोएब अंसारी ने बताया परिवार में सर्दी या फ्लू से पीड़ित व्यक्ति से दूरी बनाकर रखनी चाहिए। ऐसे में घर में भी मास्क लगाकर रखें। अपने हाथों को समय-समय पर 40 सेकंड तक साबुन और पानी से धोते रहें। चेहरे को छूने से बचें, दूसरों से दो गज की दूरी बनाकर रखें।
कितने समय के लिए लेनी चाहिए भाप
जैसे आप हाथों को सैनिटाइजर से साफ करते हैं,ठीक वैसे ही स्टीम अंदर जाकर फेफड़ों को सैनिटाइज करता है। रोजाना पांच मिनट तक भाप लेने से वायरस से बचाव हो सकता है।
कितनी बार लेनी चाहिए भाप
जानकारी के मुताबिक, दिन में 3 बार से ज्यादा भाप नहीं लेनी चाहिए। साथ ही एक बार में 5 मिनट से ज्यादा भाप नहीं लेनी चाहिए। एक बात का खास ध्यान रखिए कि भाप लेते वक्त मुंह खुला रहना चाहिए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *