वैक्सीन संकट: कई बड़े राज्यों ने खड़े कर दिए हाथ,1 मई से नहीं लगा पाएंगे 18+ को टीका

देश देश-दुनिया नई दिल्ली

क्या दिल्ली क्या यूपी,सभी जगह वैक्सीन संकट देखने को मिल रहा है। कई राज्य सरकार ने तो सीरम और भारत बायोटेक संग वैक्सीन के लिए करार भी किया है,लेकिन सप्लाई मिलती नहीं दिख रही है।

  • देश में वैक्सीन की भारी कमी
  • 18+ को टीका लगाना बड़ी चुनौती
  • बड़े राज्यों ने खड़े कर दिए हाथ

नई दिल्ली: देश में कोरोना की गति बेकाबू हो गई है और रोज साढ़े तीन लाख से ज्यादा नए मामले दर्ज किए जा रहे हैं। बिगड़ते हालात के बीच टीकाकरण पर काफी जोर दिया जा रहा है। सरकार भी देश की आबादी को जल्द कोविड का टीका लगवाना चाहती है। इसी कड़ी में एक मई से 18+ कोरोना की वैक्सीन लगाने की तैयारी है। लेकिन सवाल ये है कि ऐसा होगा कैसे क्योंकि तमाम बड़े राज्य वैक्सीन की कमी से जूझ रहे हैं। उन्हें समय रहते वैक्सीन स्टॉक नहीं मिल पा रहा है।
दिल्ली में वैक्सीन की कमी
क्या दिल्ली क्या यूपी,सभी जगह वैक्सीन संकट देखने को मिल रहा है। कई राज्य सरकार ने तो सीरम और भारत बायोटेक संग वैक्सीन के लिए करार भी किया है,लेकिन सप्लाई मिलती नहीं दिख रही है। इसी देरी को देखते हुए कई राज्य एक मई से 18+ को वैक्सीन नहीं लगा पाएंगे। देश की राजधानी दिल्ली में भी वैक्सीन की कमी बड़ा मुद्दा है। सीएम अरविंद केजरीवाल की तरफ से कहा गया है कि लोग वैक्सीन सेंटर के बाहर लाइन ना लगाएं। अभी वैक्सीन की कमी चल रही है। उनकी तरफ से ये दावा जरूर किया गया है कि दो दिन बाद वैक्सीन का स्टॉक आ जाएगा और फिर वैक्सीनेशन को तेज गति से शुरू कर दिया जाएगा।
केजरीवाल ने जोर देकर ये भी कह दिया है कि वे आने वाले तीन महीनों में पूरी दिल्ली को टीका लगाने की तैयारी कर रहे हैं। वे लगातार वैक्सीन निर्माताओं के संपर्क में हैं। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी वैक्सीन की कमी पर चिंता जाहिर की है। उनके मुताबिक दिल्ली में अभी भी वैक्सीन की भारी कमी है,वहीं उन्हें अभी तक वैक्सीन निर्माताओं की तरफ से ये नहीं बताया गया है कि एक राज्य को वैक्सीन की कितनी डोज मिलने जा रही हैं।
यूपी के पास भी तीसरे चरण के लिए वैक्सीन नहीं
वैसे ये हालात सिर्फ गैर भाजपा शासित राज्य में नहीं है। उत्तर प्रदेश में भी वैक्सीन संकट देखने को मिल रहा है। स्पष्ट कर दिया गया है कि तीसरे चरण आरंभ करने के लिए वैक्सीन नहीं है। एक करोड़ डोज का ऑडर तो जरूर दिया गया है,लेकिन अभी तक स्टॉक राज्य को नहीं मिला है। ऐसे में देश के सबसे बड़े राज्य में भी 18+ को वैक्सीन लगाना बड़ी चुनौती है। गुजरात की रुपाणी सरकार ने भी हाथ खड़े कर दिए हैं और उम्मीद जताई है कि वे 15 मई से पूरी ताकत के साथ टीकाकरण कर पाएंगे।
गुजरात को नहीं मिल रही समय रहते सप्लाई
सीएम विजय रुपाणी की तरफ से बताया गया है कि राज्य ने ढाई करोड़ वैक्सीन का ऑडर दिया है। उनकी मानें तो 15 दिन के अंदर वैक्सीन का स्टॉक आ जाएगा और उनकी सरकार टीकाकरण अभियान को रफ्तार दे पाएगी। अभी के लिए गुजरात भी वैक्सीन की शॉर्टेज से जूझता दिख रहा है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तरफ से भी साफ कर दिया गया है कि उनकी सरकार एक मई से तीसरे चरण का टीकाकरण शुरू नहीं करने जा रही है। वे अभी भी 45+ की ही वैक्सीनेशन जारी रखेंगे।
सीएम ने कहा है कि अभी वैक्सीन निर्माता राज्य को पर्याप्त डोज नहीं दे पाएंगे,ऐसे में एक मई से 18+ को टीका लगाना संभव नहीं। इतना जरूरी कहा गया है कि राज्य में तीन मई तक वैक्सीन का स्टॉक आ सकता है,उसके बाद रणनीति के तहत तीसरे चरण पर भी काम शुरू होगा।
गहलोत सरकार भी वैक्सीन की कमी से नाराज
राजस्थान की गहलोत सरकार भी वैक्सीन की कमी से नाराज है। स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने कहा है कि उन्हें उस प्रक्रिया की पूरी जानकारी नहीं है जिसके जरिए वैक्सीन का ऑडर प्लेस किया जा सकता है। उनकी मानें तो सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट से बात जरूर की है,लेकिन वहां बताया गया है कि 15 मई से पहले वैक्सीन की सप्लाई नहीं की जा सकती। ऐसे में राज्य 18+ को टीका लगाने की स्थिति में नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *