स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही: महिला काट रही है 7 दिन से पति की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट लेने के लिए सीएचसी जानसठ के चक्कर

उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया मेरठ मंडल
  • दो बार कोरोना टेस्ट कराने के बाद भी नहीं मिली 7 दिन से रिपोर्ट।
  • जिला मुजफ्फरनगर के कस्बा जानसठ के स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के कारण के मरीज कि हालत खराब हो चली है।
  • सात दिन से लगातार अस्पताल के चक्कर काटने के बाद भी कोई संतुष्टी भरा जवाब नहीं मिल पा रहा है।
  • स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही आई सामने तीमारदार को बताया गया कि सैंपल कहीं खो गया है।

जानसठ: जानसठ कस्बा निवासी सरोज बाला ने बताया कि उनके पति का नाम शिवकुमार है और उनकी उम्र करीब 72 साल है। गत एक सप्ताह से उन्हें बुखार आ रहा है, साथ ही सांस लेने में भी परेशानी हो रही है। वह उन्हें लेकर गत 15 अप्रैल को कोरोना की जांच कराने के लिए सीएचसी में गई थी। जहां पर उनकी व उनके पति की कोरोना जांच की गई। उनकी रिपोर्ट तीन दिन बाद आने की बात कही गई। वह तीन दिन बाद फिर से कोरोना रिपोर्ट लेने के लिए गई तो बताया गया कि उनकी रिपोर्ट नहीं आई। अगले दिन फिर से सीएचसी जाने पर पता चला कि उसका सैंपल कहीं खो गया है उनकी दोबारा जांच करानी पड़ेगी। वह किसी तरह से फिर से अपने पति को गत 18 अप्रैल को जांच के लिए ले गई। लेकिन बुधवार की शाम तक भी जांच नहीं आने को कह कर उन्हें टरका दिया। उन्होंने बताया कि उनके पति की हालत बहुत खराब है और उन्हें ऑक्सीजन पर रखा गया है। लेकिन कोराना रिपोर्ट न आने के कारण उन्हें कहीं भी दिखाया नहीं जा रहा है,क्याेंकि कोई भी अस्पताल बिना कोरोना रिपोर्ट के उन्हें भर्ती करने तक को तैयार नहीं है। जिसके चलते उनकी जान को खतरा बना हुआ है। इस संबंध में सीएचसी प्रभारी अशोक कुमार से बात की तो उन्हाेंने बताया कि वह इस बारे में कुछ नहीं कर सकते है। वह तो यहां से सैंपल भेज रहे है। जांच रिपोर्ट क्यों नहीं आ रही उन्हें नहीं पता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *