कल से गूंजेंगे मां के जयकारे,नियमों से जाना होगा मंदिर

उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया मेरठ मंडल

हापुड़: बीते वर्ष संक्रमण और लॉकडाउन के चलते चैत्र नवरात्रि पर माता के भक्त मंदिरों में नहीं जा सके थे। घरों में रहकर पूजा की गई थी। इस वर्ष भी कोरोना संक्रमण आए दिन तेजी से बढ़ रहा है। इसे देखते हुए पूजा अर्चना को लेकर लोग असमंजस में हैं। प्रशासन के निर्णय के अनुसार इसबार भी माता के भक्तों को मंदिर में जाकर नियम से ही सिर्फ पूजा करने की अनुमति मिल सकती है। मंदिर प्रबंधन कोविड प्रोटोकॉल के तहत व्यवस्था करेगा। भक्तों को भी नियमों का पालन करना होगा। सैनिटाइजर से हाथ धो कर और मॉस्क लगाकर ही मंदिर में प्रवेश मिलेगा। मंदिरों पर लगने वाले मेले इस बार नहीं लगेंगे। केवल मंदिर परिसर में भगवान की पूजा सामग्री और प्रसाद की ही दुकानें लग जाए तो गनीमत है। कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। उच्च अधिकारियों द्वारा आदेश दिए जा रहे हैं कि जो लोग मंदिर जाएं, वह कोरोना के नियमों का पालन करें, सावधानी बहुत जरूरी है।चंडी मंदिर के मुख्य पुजारी मुन्नालाल तिवारी का कहना है कि श्रद्धालुओं के मंदिर में आने के विशेष प्रबंध किए गए हैं। सैनिटाइजर की व्यवस्था गेट पर ही की गई है। आरती का समय सुबह 5:00 बजे और शाम को 7:00 बजे रहेगा। नवरात्रों में भक्तों की संख्या को ध्यान में रखते हुए मंदिर परिसर में आने और जाने के मार्ग में भी परिवर्तन किया गया है। मां पथवारी मंदिर के पुजारी ओम प्रकाश अवस्थी का कहना है कि नवरात्रों में भक्तों की संख्या को ध्यान में रखते हुए एक समय में मंदिर में 4 श्रद्धालु ही उपस्थित हो सकेंगे। बिना मॉस्क के किसी को भी मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। शिवपुरी स्थित  शीतला माता  मंदिर के पुजारी पंडित मनोज ने बताया कि नवरात्रों से पहले मंदिर परिसर की साफ सफाई करने के बाद ही भक्तों के लिए मंदिर के कपाट खोले जाएंगे। नवरात्रों में सुबह 5:00 बजे मां का सिंगार कर भक्तों के लिए कपाट खोल दिए जाएंगे। रात 7:00 बजे आरती के बाद मंदिर के कपाट बंद कर दिए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *