स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय में निसर्गोपचार महोत्सव का शुभारंभ

उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया मेरठ मंडल शिक्षा

मेरठ: स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय के महर्षि अरबिंदो सुभारती कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल ऑफ नेचुरोपैथी एण्ड योगिक साइन्सेस में केन्द्रींय आयुष मंत्रालय भारत सरकार के द्वारा संचालित राष्ट्रीय प्राकृतिक संस्थान पूणे के सहयोग से निसर्गोपचार महोत्सव (मेगा नेचुरोपैथी शिविर) का शुभारंभ किया गया। शिविर का शुभारंभ सुभारती विश्वविद्यालय की मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा.शल्या राज,सुभारती अस्पताल के चिकित्सा उपाधीक्षक डा.कृष्णा मूर्ति एवं नेचुरोपैथी कॉलिज के प्राचार्य डा.अभय एम.शंकरगौड़ा ने दीप प्रज्जवलन करके किया।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा.शल्या राज ने शिविर के शुभारंभ के अवसर पर सभी को बधाई देते हुए कहा कि निसर्गोपचार महोत्सव प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति से लाभान्वित करने में सहयोग देगा। उन्होंने क्षेत्रवासियों से शिविर में पहुंचकर निःशुल्क परामर्श एवं उपचार प्राप्त करनी की अपील करते हुए शिविर की सफलता हेतु अपनी शुभकामनाएं दी।
सुभारती अस्पताल के चिकित्सा उपाधीक्षक डा.कृष्णा मूर्ति ने निसर्गोपचार महोत्सव के शुभारंभ पर अपनी शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति भारतीय सभ्यता की प्राचीन विरासत है और वर्तमान में जिस प्रकार आधुनिक तकनीक की सहायता से प्राकृतिक चिकित्सा को अधिक प्रभावशाली बनाया गया है इससे जनमानस को लाभ मिल रहा है।
नेचुरोपैथी एण्ड योगिक साइन्सेस कॉलेज के प्राचार्य डा.अभय एम.शंकरगौड़ा ने बताया कि शिविर के अर्न्तगत विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है जिसमें नेचुरोपैथी योग चिकित्सा के बारे में संगोष्ठी, प्राकृतिक आहार उत्सव और विशेष रूप से योग और प्राकृतिक चिकित्सा के बारे में परामर्श एवं उपचार दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि योग और प्राकृतिक चिकित्सा आज के जीवन में अधिक महत्वपूर्ण है सुभारती नेचुरोपैथी एण्ड योगिक साइन्सेस कॉलेज में इस अद्भुद चिकित्सा पद्धति के लिए अन्तराष्ट्रीय स्तर की सेवाएं उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार प्राकृतिक चिकित्सा के लिये लोगो में जागरूकता बड़ी है। इसे प्रोत्साहित करते हुए सुभारती विश्वविद्यालय द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चिकित्साओं को सुसज्जित किया गया है। उन्होंने बताया कि वर्तमान समय में रोजमर्रा के रोगो के अलावा कैंसर,ह्नदय रोग,एडस,मानसिक रोग, मधुमेह, कोरोना आदि विभिन्न प्रकार की बीमारियों ने हर इंसान को जकड़ रखा है इन सभी बीमारियों से प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग के माध्यम से छुटकारा पाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि प्राकृतिक चिकित्सा ऐसी प्राचीन चिकित्सा पद्धति है जो हजारों सालों से ऋषि मुनियों एवं वैधों के द्वारा मानव जाति को स्वास्थ्य लाभ देने के लिए अब वैज्ञानिक तरीके से प्रयोग की गई चिकित्सा है जो बिना कोई हानि पहुंचाएं हमारे शरीर को सुख एवं स्वास्थ्य प्रदान करती है। उन्होंने बताया कि निसर्गोपचार महोत्सव 24.03.2021 तक निःशुल्क आयोजित किया जाएगा जिसमें मेरठ सहित आस पास के क्षेत्रवासी शामिल होकर परामर्श एवं उपचार प्राप्त कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *