जब तक सरकार नहीं मानेगी, आंदोलन चलता रहेगा: राकेश टिकैत

देश देश-दुनिया नई दिल्ली राजनीति राज्य

नई दिल्ली : भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने नए कषि कानूनों के खिलाफ चल रहे विरोध के बीच गुरुवार को बड़ा ऐलान किया है। राकेश टिकैत ने कहा कि हम तब तक अपना विरोध जारी रखेंगे जब तक सरकार समिति से बात करने के लिए सहमत नहीं हो जाती। हम यहां लंबे समय तक डटे रहेंगे। सरकार से अभी बातचीत की कोई गुंजाइश नहीं है, तैयारी लंबी है। टिकैत ने कहा कि पिछले 5 दशक से सरकारे उपभोक्ताओं को खुश करने व बिचौलियों को मुनाफा दिलाने के लिए किसानों को उनकी फसलो का लाभकारी मूल्य दिलाने से रोकती रही है। देश में फसलों के लिए न्यूनतम और अधिकतम दर होनी चाहिए।
हमारी तैयारी लंबी है
भाकियू नेता राकेश टिकैत ने इस बात का भी जिक्र किया है कि अभी बातचीत की कोई गुंजाइश नहीं है। हमारी तैयारी तैयारी लंबी है। कानून वापस न होने की स्थिति में हम अपना आंदोलन जारी रखेंगे।
गर्मी की तैयारी में जुटे किसान
वहीं कृषि कानूनों के खिलाफ टीकरी बॉर्डर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों ने गर्मियों के लिए अपनी तैयारी में जुट गए हैं। टिकरी बॉर्डर पर प्रदर्शनकारियों ने प्रदर्शनस्थल पर पंखे, बोरवेल और फ्रिज का इंतजाम किया है।दूसरी तरफ किसान आंदोलन को लेकर केंद्र सरकार अपनी स्थिति पहले ही स्पष्ट कर चुकी है। केंद्र का कहना है कि सरकार कृषि कानूनों को वापस नहीं लेगी। कानूनों में संशोधन के लिए हम तैयार हैं।
टिकैत बोले भूख के आधार पर देश में कीमतें तय नहीं होने देंगे
भाकियू नेता राकेश टिकैत ने यह भी कहा कि चार राज्यों पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल और असम की विधानसभाओं के विधानसभा चुनाव शुरू होने वाले हैं। ऐसे में किसान भी देश के राजनीतिक रैलियों में भाग लेंगे। हम किसान भूख के आधार पर देश में कीमतें तय नहीं होने देंगे। किसान तीन नए अधिनियमित खेत कानूनों के खिलाफ 26 नवंबर से राष्ट्रीय राजधानी की विभिन्न सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान उपज व्‍यापार एवं वाणिज्‍य (संवर्धन एवं सुविधा) विधेयक,2020, किसानों (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) का मूल्‍य आश्‍वासन अनुबंध एवं कृषि सेवाएं विधेयक,2020 और आवश्‍यक वस्‍तु (संशोधन) विधेयक,2020 का विरोध हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *