पंचायत चुनाव:बीट सिपाही गांव में लगाएंगे चौपाल, थाना स्तर पर शुरू होंगे ग्रामीणों से संवाद

meerut उत्तर प्रदेश के मंडल देश देश-दुनिया मेरठ मंडल राजनीति राज्य

मेरठ: त्रिस्तरीय चुनाव में किसी भी प्रकार की हिंसा रोकने और ग्रामीणों के बीच अपनी पैठ बनाने के उद्देश्य से पुलिस ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी है। मेरठ जिला पुलिस के ग्रामीण क्षेत्रों के अंतगर्त आने वाले थानेदारों ने अभी से कमर कसना शुरू कर दिया है। एक तरफ जहां बीट सिपाहियों की सक्रियता को बढ़ा दिया गया है। वहीं दूसरी ओर गांवों में पुराने केसों की स्थिति की समीक्षा की जा रही है। ऐसे गांवों को चिन्हित कर उन पर एक योजना के तहत काम किया जा रहा है। जहां पर गत पंचायत चुनावों में हिंसा होती रही है। ग्रामीणों के बीच आपसी समन्वय बेहतर बनाने के लिए बैठको के दौर शुरू हो चुके हैं। इसी के साथ ही ​जिला पुलिस गांवों में चौपालें लगाने की भी तैयारी कर रही है।
गांव में मजबूत होगी बीट प्रणाली: पंचायत चुनाव की सुगबुगाहट होते ही पुलिस गांवों में अपनी बीट प्रणाली को मजबूत बनाने में जुट गई है। इसके लिए ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित थानों में थाना स्तर पर ग्रामीणों से संवाद के कार्यक्रम भी शुरू किए जाएंगे। हालांकि अधिकारी ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर लोगों के साथ बैठकें कर रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में अपराधियों की मौजूदा स्थिति को देखा जा रहा है। अधिकारी गांवों में समस्या को भी सुन रहे हैं। यह देखा जा रहा है कि कहीं किसी से रंजिश तो नहीं चल रही है। अगर है तो इसका भी समाधान गांव के प्रमुख लोगों से माध्यम से कराने की कोशिश की जा रही है।
खुराफाती लोगों पर बढ़ाई निगरानी: गांवों में खुराफात करने वाले लोगों पर भी पुलिस ने निगरानी बढ़ा दी है। महिला शक्ति अभियान के तहत एंटी रोमियो स्क्वायड भी सक्रिय हो गई है। ऐसे लोगों को चिह्नित किया जा रहा है कि जो माहौल बिगाड़ने की फिराक में रहते हैं। थाना स्तर पर ऐसे लोगों की सूचीबद्ध किया जा रहा है।एसएसपी अजय साहनी का कहना है कि ग्रामीणों से संवाद करके उनकी समस्याएं जानी जा रही हैं। उनसे शांति व्यवस्था बनाए रखने व सहयोग करने की अपील की जा रही है। पुलिस की प्राथमिकता है कि किसी भी हालत में चुनाव के दौरान माहौल खराब न होने पाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *